top of page

खुद पर खुद का यकीन

अगर आप में कुछ करने की, कुछ बनने की लगन और शक्ति हो तो फिर कद और उम्र महज एक नंबर बन के रह जाते हैं,क्यूंकि,तब आप सिर्फ और सिर्फ अपने लक्ष्य की तरफ ध्यान देते हैं। हमारे सामने ऐसे अनेक उदहारण हैं, जो हमें कद के मामले में भले ही छोटे लगे लेकिन,उनकी पहचान, उनकी शख्सियत का कद सामान्य से कहीं अधिक बड़ा है।

कुछ ऐसी ही कहानी है हरविंदर कौर की। किसी समय उनके कद को लेकर मजाक बनाया जाता था लेकिन, आज वो देश की सबसे छोटे कद की वकील है। अपनी काबलियत के बल पर और कद-काठी को पीछे छोड़ते हुए हरविंदर कौर ने एक वकील बन के साबित कर दिया कि सच्ची लगन से किसी भी मंजिल को आसानी से पा सकते हैं।

पंजाब के बठिंडा के पास रामा मंडी की रहने वाली हैं हरविंदर कौर फ़िलहाल जालंधर कोर्ट में कार्यरत है। 24 वर्षीय हरविंदर कौर की हाइट 3 फिट 11 इंच है। उन्होंने वकालत की पढ़ाई पंजाब में ही की थी। हरविंदर बचपन में एयर होस्टेट बनाना चाहती थी। लेकिन, छोटी हाइट की वजह से उनका यह सपना पूरा नहीं हो सका। जब लगा कि एयर होस्टेट नहीं बन सकती है, तो उन्होंने वकालत की पढाई की। हालांकि, इस बीच लोगों ने उनका बहुत मजाक बनाया लेकिन वह लोगों के मजाक को दरकिनार करते हुए अपनी पढाई में लगी रही। वे कहती हैं कि 'लोगों के मजाक की वजह से मैं इतने तनाव और चिंता से रहती थी कि कई बार आत्महत्या करने के विचार भी मन में आते थे। उन्हें लगता था कि वह एक बोझ है। लेकिन,कॉलेज में धीरे-धीरे चीजे नार्मल होने लगी और वह लक्ष्य के प्रति आगे बढ़ती रही।

सोशल मीडिया पर मोटिवेशनल वीडियो देखकर उन्होंने फैसला लिया कि लॉ फिल्ड में ही करियर बनाना है। इसके बाद उन्होंने लॉ की पढाई शुरू कर दी। इसी बीच जब भी सोशल मीडिया पर वो फोटो डालती तो लोगों से खूब प्यार मिलता जिसके चलते उन्हें और भी हिम्मत मिली।हरविंदर एक वकील के साथ-साथ एक मोटिवेशनल स्पीकर भी है। वे महिलाओं को मोटिवेट करती है और सोशल मीडिया के माध्यम से लोगों को प्रेरित भी करती है। आज सोशल मिडिया पर हरविंदर कौर को लगभग एक लाख से अधिक लोग फॉलो करते हैं।

मेरे प्यारे दोस्तों, कुछ बनने के रास्ते में रिजेक्शन भी मिलेंगे और कुछ लोग मजाक भी उडा सकते हैं लेकिन आप खुद पर यकीन रखिए और धैर्य और हिम्मत के साथ अपनी मंजिल की तरफ कदम बढ़ाइए... मंज़िल जरुर मिलेगी। ढेरों शुभकामनाएं!!!

Recent Posts

See All

सोच बदलें तो...बदलेगें हालात।

अभी कुछ महीनों पहले अमेरिका मे डाक्टरों के बीच हुए सर्वे के मुताबिक महिला और पुरुषों का काम -ओहदा भले ही एक जैसा हो लेकिन आमदनी में पुरुष ही आगे रहते हैं। इस स्टडी के प्रमुख हेल्थ इकोनोमिस्ट क्रिस्टो

हुनर + हौंसला = मुकाम

हुनर तो कई लोगों में होता है लेकिन इसके साथ हौसला हो तो मुकाम तक पहुंचना मुश्किल नहीं होता है। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है राजस्थान की रूमादेवी ने। राष्ट्रपति के हाथों नारी शक्ति अवार्ड पाने वाली रूमा देव

Kommentare


bottom of page