top of page

सपनों की उड़ान

हमारी जिंदगी क्या हमेशा हमारे हिसाब से चलती है ? अधिकतर लोग इसका जवाब नहीं में देंगें। लेकिन कुछ का जबाव हां भी हो सकता है। बहुत बार ऐसा होता है कि हम सोचते हैं कि हम अपने जीवन में ये करेंगे, वो करेंगे पर कर नहीं पाते। होता है ना ऐसा ? कभी परिस्थितियां हमारा साथ नहीं देती तो कभी किसी अन्य कारणों से हम अपने हिसाब से अपना जीवन जी नहीं पाते। तो क्या हार मानकर बैठ जाएं ? नहीं जनाब, अगर कोई सपना देखा है कुछ करने का, कुछ बनने का तो उसको पूरा भी आप ही को करना होगा।

अक्सर ऐसा कहा जाता है कि इंसान जब कुछ पाने की ठान लेता है तो आसमान को भी छुआ जा सकता है। भारत की सबसे बड़ी प्राइवेट जेट कंपनी-जेटसेटगो ( jetSetGo)की फाउंडर और सीईओ कनिका टेकरीवाल (Kanika Tekriwal) की कहानी भी कुछ ऐसी ही है। कनिका टेकरीवाल एमबीए है। वह 21साल की उम्र में कैंसर का शिकार हो गई थी लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी। इस बीमारी को हराने की ठानी और उसमें कामयाब भी हुई। इसके बाद 2012 में 22 साल की उम्र में 'जेटसेटगो' का स्टार्टअप शुरू किया और 32 साल की उम्र में वो 10 प्राइवेट जेट की मालकिन हैं।

जेटसेटगो एक प्लेन एग्रीगेटर स्टार्टअप है जो चार्टर्ड विमानों और हेलीकॉप्टरों का संचालन, प्रबंधन और उड़ान भरने का काम करता है. जेटसेटगो को भारतीय आसमान का उबर भी कहा जाता है। इसकी जर्नी साल 2012 में निजी उड़ान को अधिक सुलभ, पारदर्शी, किफायती और सभी के लिए कुशल बनाने के उद्देश्य से शुरू की गई थी।यह लोगों को आसानी से प्राइवेट एयरक्रॉफ्ट, हेलिकॉप्टर और एयर एंबुलेंस की ऑनलाइन बुकिंग की सुविधा देती है।

कनिका को यह आइडिया तब आया जब उन्हें पता चला कि निजी तौर पर चार्टर्ड विमानों का उद्योग दलालों और ऑपरेटरों से भरा हुआ है अगर किसी को प्राइवेट जेट चाहिए होता है तो उसे किसी दलाल या निजी ऑपरेटर से संपर्क करना होता है। साथ ही पारदर्शिता की कमी और चार्टर विमानों की अनुपलब्धता के कारण उन्हें बहुत निराशा हुई। कनिका ने इसे बदलने का फैसला किया। और आज नतीजा हमारे सामने है।

कनिका को फोर्ब्स ने रिटेल व ईकॉमर्स के मामले में एशिया की 30 Under 30 लिस्ट में शामिल किया।वह भारत की 100 सबसे अमीर महिलाओं की लिस्ट में भी शामिल हैं ।आज उनकी कंपनी का टर्नओवर करीब 150 करोड़ रुपये है।

तो देखा आपने सपने देखना जितना आसान है उन्हें पूरा करना थोड़ा कठिन है लेकिन मन में दृढ़ संकल्प हो और हौंसले बुलंद हो तो आप कुछ भी हासिल कर सकते हो। है ना ?।नवतरंग की शुभकामनाएं!!!

Recent Posts

See All

सोच बदलें तो...बदलेगें हालात।

अभी कुछ महीनों पहले अमेरिका मे डाक्टरों के बीच हुए सर्वे के मुताबिक महिला और पुरुषों का काम -ओहदा भले ही एक जैसा हो लेकिन आमदनी में पुरुष ही आगे रहते हैं। इस स्टडी के प्रमुख हेल्थ इकोनोमिस्ट क्रिस्टो

हुनर + हौंसला = मुकाम

हुनर तो कई लोगों में होता है लेकिन इसके साथ हौसला हो तो मुकाम तक पहुंचना मुश्किल नहीं होता है। ऐसा ही कुछ कर दिखाया है राजस्थान की रूमादेवी ने। राष्ट्रपति के हाथों नारी शक्ति अवार्ड पाने वाली रूमा देव

Kommentare


bottom of page